Wednesday, June 16, 2010

बहुत हो चुकी गीत ग़ज़ल छंदों की हार इन मंचों पर




गत दिनों मंचीय कवि और कविता पर

चिन्तन कर रहा था

तो ये पंक्तियाँ स्वतः और बरबस ही बन गईं




बहुत हो चुकी नारी की छीछालेदार इन मंचों पर

बहुत हो चुका घरवाली का कारोबार इन मंचों पर


बहुत हो चुके सड़े चुटकुले बार-बार
इन मंचों पर

बहुत हो चुके टुच्चे टोटके लगातार
इन मंचों पर


बहुत हो चुकी गीत ग़ज़ल छंदों की हार इन मंचों पर

बहुत हो चुका चीर काव्य का तार तार इन मंचों पर


बहुत हो चुका कविताई से व्यभिचार इन मंचों पर

बहुत हो चुकी सरस्वती माँ शर्मसार इन मंचों पर


अब मंचों पर

राम के मर्यादित परिवेश की बात करो


महावीर की

अहिंसा के शीतल सन्देश की बात करो


जन जन में

जो उबल रहा है उस आवेश की बात करो


कवियों ! अब

तुम कविताओं में सिर्फ़ देश की बात करो


deshbhakti,india,kumar,shanu,dada,akhil, bharteeya, hindi, hasya, kavi, sammelan,laughter, champion,sen,sex, taj, gazal,mobile,sony,star,zee,tarak,swarnim,gujarat, blogger,times,bhaskar,jagran,sgcci,lux,jivraj,lata,poetry,idol,girls,teen,












www.albelakhatri.com

26 comments:

  1. जिन्दा लोगों की तलाश!

    आपको उक्त शीर्षक पढकर अटपटा जरूर लग रहा होगा, लेकिन सच में इस देश को कुछ जिन्दा लोगों की तलाश है। सागर की इस तलाश में हम सिर्फ सिर्फ बूंद मात्र हैं, लेकिन सागर बूंद को नकार नहीं सकता। बूंद के बिना सागर को हो सकता है कोई फर्क नहीं पडता हो, लेकिन बूंद का सागर के बिना कोई अस्तित्व नहीं है।

    आपको उक्त टिप्पणी प्रासंगिक लगे या न लगे, लेकिन हमारा आग्रह है कि बूंद से सागर की राह में आपको सहयोग जरूरी है। यदि यह टिप्पणी आपके अनुमोदन के बाद प्रदर्शित होगी तो निश्चय ही विचार की यात्रा में आप को सारथी बनना होगा। इच्छा आपकी, आग्रह हमारा है। हम ऐसे कुछ जिन्दा लोगों की तलाश में हैं, जिनके दिल में भगत सिंह जैसा जज्बा तो लेकिन इस जज्बे की आग से अपने आपको जलने से बचाने की समझ भी जिनमें हो, क्योंकि भगत ने यही नासमझी की थी, जिसका दुःख आने वाली पढियों को सदैव सताता रहेगा। हमें सुभाष चन्द्र बोस, असफाकउल्लाह और चन्द्र शेखर आजाद जैसे आजादी के दीवानों की भांति आज के काले अंग्रेजों के आतंक के खिलाफ बुद्धिमतापूर्ण तरीके से लडने वाले जिन्दादिल लोगों की तलाश है। आपको सहयोग केवल इतना भी मिल सके कि यह टिप्पणी आपके ब्लॉग पर प्रदर्शित होती रहे तो कम नहीं होगा। आशा है कि आप उचित निर्णय लेंगे।


    समाज सेवा या जागरूकता या किसी भी क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों को जानना बेहद जरूरी है कि इस देश में कानून का संरक्षण प्राप्त गुण्डों का राज कायम होता जा है, बल्कि हो ही चुका है। सरकार द्वारा जनता से हजारों तरीकों से टेक्स (कर) वूसला जाता है, देश का विकास एवं समाज का उत्थान करने के साथ-साथ जवाबदेह प्रशासनिक ढांचा खडा करने के लिये, लेकिन राजनेताओं के साथ-साथ भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसरों द्वारा इस देश को और देश के लोकतन्त्र को हर तरह से पंगु बना दिया गया है।

    भारतीय प्रशासनिक सेवा के अफसर, जिन्हें संविधान में लोक सेवक (जनता के नौकर) कहा गया है, व्यवहार में लोक स्वामी बन बैठे हैं। सरकारी धन को भ्रष्टाचार के जरिये डकारना और जनता पर अत्याचार करना इन्होंने अपना कानूनी अधिकार समझ लिया है। कुछ स्वार्थी लोग इनका साथ देकर देश की अस्सी प्रतिशत जनता का कदम-कदम पर शोषण एवं तिरस्कार कर रहे हैं। ऐसे में, मैं प्रत्येक बुद्धिजीवी, संवेदनशील, सृजनशील, खुद्दार, देशभक्त और देश तथा अपने एवं भावी पीढियों के वर्तमान व भविष्य के प्रति संजीदा लोगों से पूछना चाहता हँू कि केवल दिखावटी बातें करके और अच्छी-अच्छी बातें लिखकर क्या हम हमारे मकसद में कामयाब हो सकते हैं? हमें समझना होगा कि आज देश में तानाशाही, जासूसी, नक्सलवाद, लूट, आदि जो कुछ भी गैर-कानूनी ताण्डव हो रहा है, उसका एक बडा कारण है, भारतीय प्रशासनिक सेवा के भ्रष्ट एवं बेलगाम अफसरों द्वारा सत्ता मनमाना दुरुपयोग करना और कानून के शिकंजे बच निकलना।

    शहीद-ए-आजम भगत सिंह के आदर्शों को सामने रखकर 1993 में स्थापित-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)- के सत्रह राज्यों में सेवारत 4300 से अधिक रजिस्टर्ड आजीवन सदस्यों की ओर से मैं दूसरा सवाल आपके समक्ष यह भी प्रस्तुत कर रहा हूँ कि-सरकारी कुर्सी पर बैठकर, भेदभाव, मनमानी, भ्रष्टाचार, अत्याचार, शोषण और गैर-कानूनी काम करने वाले लोक सेवकों को भारतीय दण्ड विधानों के तहत कठोर सजा नहीं मिलने के कारण आम व्यक्ति की प्रगति में रुकावट एवं देश की एकता, शान्ति, सम्प्रभुता और धर्म-निरपेक्षता को लगातार खतरा पैदा हो रहा है! क्या हम हमारे इन नौकरों (लोक सेवक से लोक स्वामी बन बैठे अफसरों) को यों हीं सहते रहेंगे?

    जो भी व्यक्ति इस जनान्दोलन से जुडना चाहे उसका स्वागत है और निःशुल्क सदस्यता फार्म प्राप्त करने के लिये निम्न पते पर लिखें या फोन पर बात करें :-

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा
    राष्ट्रीय अध्यक्ष
    भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
    राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यालय
    7, तँवर कॉलोनी, खातीपुरा रोड, जयपुर-302006 (राजस्थान)
    फोन : 0141-2222225 (सायं : 7 से 8) मो. 098285-02666, E-mail : dr.purushottammeena@yahoo.in

    ReplyDelete
  2. आदरणीय अलबेलाजी
    आपका तो वैसे भी चारों ओर साम्राज्य स्थापित है । नेट पर भी पहले से ही छाए हुए हैं । अब इस ब्लॉग के माध्यम से आपसे मिलने की संभावनाएं और भी बढ़ी हैं , यह अच्छी बात है ।
    और आपने मंचों पर कविता की हो रही दुर्गत को नज़दीक से भी देखा है ।
    आपको बधाई है कि आपने अपनी रचना द्वारा यहां भी ढंग के रचनाकारों की पीड़ा को अभिव्यक्ति दी है …
    बहुत हो चुकी सरस्वती माँ शर्मसार इन मंचों पर
    साधुवाद के पात्र हैं आप ।
    आशा है , आम जन को जिस कुटिलता से अच्छी कविता से दूर किए जाने के षड़यंत्र रचने वाले सक्रिय हैं , उनके इरादों को नाकाम करने की दिशा में भी आप अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे ।
    मैं देख रहा हूं ऐसे लोग अब नेट पर भी पांव पसारने की कोशिशों में हैं ।
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    ReplyDelete
  3. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete
  4. अलबेला जी चंद लाइन में ही मंचीय कविता की सारी कहानी कह दी है आपने। बदलने का समय तो है। बदलाव की जुस्तुजु लोगो में दिख रही है। पर एक मंच नहीं मिल पा रहा। अलग अलग स्तर पर अलग अलग हो रहा संघर्ष एक मंच पर आ जाए तो काया पलट होते देर लगेगी क्या।

    ReplyDelete
  5. अलबेला जी!...सब कुछ छटाकेदार, चटाकेदार, फटाकेदार और धमाकेदार है.....मजा आ गया!

    ReplyDelete
  6. ....जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई!.... सब मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  7. ...गणेश चतुर्थी और ईद की बधाइयां !

    ReplyDelete
  8. albela ji !! aapne mudaa bahut hee sahi uthaya hai..aaj kal hasy vyang ke naam par TV channels mei aise baatey hasi hasi me dikhayi jaati hai jo bhaddi hoti hai .. parivar ke saath baith kar kaise dekhe TV... aapki rachnaa bahut khoob hai...

    ReplyDelete
  9. कवियों ! अब

    तुम कविताओं में सिर्फ़ देश की बात करो

    सात्विक आह्वान!!
    अभिनंदन!

    ReplyDelete
  10. एक सुन्दर कविता ही नही व्यंग्य की पैनी धार भी है। लेकिन कब बदलेगा कविता का यह स्वरूप।

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी रचना है.........आशा है सब कवि इस और ध्यान देंगे
    आपको बधाई!

    ReplyDelete
  12. rachana rachanakar ka parechayak hoti hai.
    Esileye Es manhari rachana ko padhkar aap ki rachanashilata & gayan ka bakhoobi pata lagta hai..

    ReplyDelete
  13. man ki baat kahi aapne Albele ji. Ekdum seedhe jaa ke lagti hai sahi jagah.... abhivaadan.

    ReplyDelete
  14. bahut sateek baat kahi sadhe sandhaano se....ek dum man ki baat. Abhivaadan aapko Albela Ji!!

    ReplyDelete
  15. टुच्चे टोटके .........
    '''''''''''''''''''''''''''''''''''

    बहुत ही अच्छी रचना है |

    धन्यवाद |

    ReplyDelete
  16. ek umda lekh...

    mere blog par bhi sawagat hai..
    Lyrics Mantra
    thankyou

    ReplyDelete
  17. sahi kaha lekin, sabhi tarah ki rachnao ka mahatwa hai.....

    ReplyDelete
  18. agar ek hi ras par likhna prarambh ho jayega to sahitya ke baaki rason ka kya hoga????

    ReplyDelete
  19. गज्जु दादा वाह वाह अब कविता में देश की बात करो. बधाई.
    कविता की कटिया से मछली कैसे फँसाई जाती है ये ब्लाग की दुनियाँ ही नहीं मंच की दुनियां में आप ने वर्षों से देखा है तब ही इतनी तल्खियां आ रही हैं बयान में.
    આપ ગુજરાતના છો અને રાષ્ટ્રભાષા હિન્દીની સેવા આપની કલમ અને જબાન થી કરી રહ્યા છો તેની પણ અત્રે નોધ લેવી પડે. ખાસ કરી ને આપ સૂરતના છો તે બાત જ ગઝબની કહેવાય. મેં બારડોલી પાસે કરચલિયા સરકારી કોલેજમાં પણ નૌકરી કરેલ છે. આપને કાશ ક્યારે રૂબરૂ મળી શકાય મનોજ ખંડેરિયાના શબ્દોમાં કહુઁ તો-

    મને સદભાગ્ય કે શબ્દો મળ્યા તારા નગર જાવા,
    ચરણ લઈ દોડવા બેસું તો વરસો ના વરસ લાગે.
    अब तो जाते हैं मयकदे से मीर,
    फिर मिलेंगे अगर खुदा लाया.

    ReplyDelete
  20. Hi, I am the owner of a Photography blog photographymc.blogspot.com

    I'd like to exchange links with you. I added your blog to my Favorites!

    Pay me a visit and let me know with a comment on the blog what you think about it.

    P.s.

    There's something you may be interested in, on my blog started a free online photography course, that includes over 200 lessons at this link: Free online Digital Photography Course

    ReplyDelete
  21. ब्लाग पर आना सार्थक हुआ । काबिलेतारीफ़ है प्रस्तुति । बहुत सुन्दर बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्‍तुति
    हम आपका स्वागत करते है..vpsrajput.in..
    क्रांतिवीर क्यों पथ में सोया?

    ReplyDelete